कोरोना के बाद वेबसाइट डिजाइनिंग में जॉब कैसे ली जाए – (लेखन: वेबसाइट डिजाइनिंग कंपनी)

कोरोना के बाद वेबसाइट डिजाइनिंग में जॉब कैसे ली जाए – (लेखन: वेबसाइट डिजाइनिंग कंपनी)

Getting job after corona, is going to be typical. By following these stratagis you can get job. This is not a crap writing, follow instructions. in Hindi Language.

कोरोना के बाद वेबसाइट डिजाइनिंग में जॉब कैसे ली जाए – (लेखन: वेबसाइट डिजाइनिंग कंपनी)

कोरोना की परिस्थिति से हम सब परिचित हैं। इसमें लाखों लोगों की नौकरिया खतरे में पड़ी, सेवा क्षेत्र से सम्बंधित नौकरियों में, अगर हम वेबसाइट डिज़ाइनर्स को बात करें तो ये बात सभी टेक्निकल डिग्री विद्यार्थियों की चिंता का प्रमुख सवाल है। तो इस लेख का प्रयोजन यह है कि, वेबसाइट डिजाइनिंग कंपनी होते हुए हम क्या सलाह दे सकते हैं जिस से विद्याथियों को लाभ हो, वो कम कठिनाई से नौकरिया पा सकें। मेरा आपसे ये निवेदन है कि आप इसे ध्यान से पढ़िए क्योंकि पहली बार अब जब कोरोना ख़तम होम जा रहा है, हमने यह निर्णय लिया कि हम एक विस्तृत लेख इस सम्बन्ध में हिंदी भाषा में लिखेंगे ताकि ज़्यादा से ज़्यादा विद्यार्थी काम समय नष्ट कर के इसे समझ सकें।
अभी तक की ज़्यादातर शैक्षिक प्रणालियाँ सिर्फ थ्योरी पर ध्यान देती रही हैं प्रैक्टिकल आपको किसी कंपनी में ही सीखना पड़ता था। हर एक कंपनी चाहे वो जो भी हो, अपने एनवायरनमेंट के हिसाब से आपको बताती थी की करना क्या है, अब समस्या को पहले समझना पड़ेगा।

कंपनियां अब इस परिस्थिति में नहीं हैं की वो दी जाने वाली तनख्वाह को इग्नोर करके धीमे धीमे आपमें होने वाली प्रगति है इंतज़ार कर सके, और आपको इसका हल पहले निकलना होगा, न कि जॉइनिंग के बाद।

अतिरिक्त स्किल डेवलपमेंट:

website designers को नयी नौकरियों में होने challenges के लिए तैयार रहना पड़ेगा। आप तैयार रहिये, ऐसा नहीं है कि hirings नहीं होंगी। वो ज़रूर होंगी पर उन्ही लोगों की जिनकी स्किल्स में दम होगा। Click To Tweet

“सतही स्किल्स के दम पर अब नौकरिया नहीं, अतिरिक्त स्किल develop करें।”

नीचे हम एक लिस्ट दे रहे हैं हमारे अनुसार ये स्किल्स ऐसी हैं कि इसकी सहायता से नयी नौकरी पाना आसान हो जाएगा।

  1. वेबसाइट डिजाइनिंग कम से कम किसी दो विषय में – जैसे कि वर्डप्रेस, मैजानटो, HTML , पाइथन इत्यादि
  2. डिजिटल मार्केटिंग, SEO SMO Paid Promotion (सर्च इंजन & सोशल मीडिया)
  3. कंटेंट राइटिंग (लिखने कि इंग्लिश पर काम कीजिए)
  4. बैक लिंकिंग ज़रूर सीख लीजिए
  5. आप Ghaphic Designing की अतिरिक्त प्रैक्टिस कीजिए

ऊपर दिए 5 points में से कोई भी 2 points सेलेक्ट कीजिए और इंटरव्यू में कंपनी को बोलिये की आपको ये दोनों आते हैं और वक़्त पड़ने पर आप ये दोनों काम कर सकते हैं|

ऐसा हो ही नहीं सकता की कोई कंपनी आपको आसानी से इग्नोर कर दे। क्योंकि आप उनकी वर्क कॉस्ट को कम कर सकते हैं और अगर आप ये अच्छी तरह से कर सके तो आपकी जॉब स्टेबिलिटी भी बढ़ जाएगी अपर आप पहले से जॉब में हैं।

हम शुरुआत से ही अपने आर्टिकल्स में कहते रहे हैं की लोखड़ौन का उपयोग अपनी स्किल बढ़ाने में कीजिए क्योंकि ये समय कोई आराम का समय नहीं है। कोई छुट्टिया नहीं हुई हैं, अगर आपने इस समय का उपयोग नहीं किया तो आप एक opportunity को मिस कर देंगे। अब जबकि उम्मीद है की लॉक-डाउन जल्द ही ख़तम होगा इतना समय नहीं बचा कि आप यूट्यूब या इंटरनेट से इसे सीख सकें क्योंकि इसमें समय लगता है, और जिन्होंने अभी ये सिर्फ इंटरनेट से सीखा है वो भी देखें कि क्या पूरी नॉलेज है उनको? क्योकि ज़्यादातर यूट्यूब वीडियो प्रमोशन के लिए बनाए जाते हैं जिनमे लिमिटेड जानकारी ही होती है।

इसलिए जानकारी पूरी होनी चाहिए, अगर ऐसा न हो तो कोई कोर्स ज्वाइन कर लीजिए! इतना समय दिया है तो थोड़ा और सही क्योंकि जॉब चाहिए ना या नहीं चाहिए?

ये सारी चीज़ें 1 से 2 महीने में आसानी से सीखी जा सकती हैं अगर अच्छी तरह ईमानदारी से सीखा जाए।

अब दूसरी बात,

उसूल बनायें काम पहले, सैलरी उस के बाद:

गलत मतलब ना निकलकर हम इसे समझते हैं कि इस उसूल का क्या मतलब?

Mindset में थोड़े बदलाव कि ज़रुरत है। ज़्यादातर कर्मचारी तनख्वाह केंद्रित विचारधारा में रहते हैं। इनका प्रमुख और अकेला मंतव्य तनख्वाह पाना ही है। ये विचारधारा घातक है, खासकर उस समय में जब इस देश का लगभग हर एक व्यक्ति कोरोना से उबरने का प्रयास कर रहा है। इस वक़्त हम सभी चाहे वो कर्मचारी हैं, व्यापारी हैं, माता पिता या खुद कम्पनिया हैं, हम सभी को एक दुसरे के लिए ही काम करना है, क्योंकि समस्या सभी कि है, किसी एक कि नहीं। और अगर इसे आप सिर्फ अपनी समस्या ही माएंगे तो आपको इस से अकेले ही जूझना होगा जो कि समझदारी बिलकुल नहीं है। देखा गया है पारस्परिक सहयोग से ही सब बेहतत तरीके से इस पर नियंत्रण पा सकते हैं।

जब आप काम और सैलरी में से काम को ज़्यादा तरजीह देते हैं तो आप दरअसल लेने नहीं बल्कि प्रदान करने कि चेष्टा कर रहे हैं। ये दरअसल कमज़ोरी नहीं बल्कि ताकत है। और ऐसे कर्मचारी कम्पनीज में ज़्यादा दिन तक ठीके रह सकते हैं। आपको अपने इंटरव्यू में ये बात रख देनी चाहिए कि आप के उसूल क्या हैं और आप कितने कीमती हैं। आपको गंवाने का कम्पनीज सोचेंगी भी नहीं |

तेज़ काम करने की आदत डालिये:

वेबसाइट डिजाइनिंग जैसे काम में timely प्रोजेक्ट कम्पलीट करना कितना ज़रूरी है ये किसी से छिपा नहीं है। समय से पूरा हुआ काम कम्पनीज को timely फंडिंग उपलब्ध करता है। जिस से वो अपने बाकी ऑपरेशन्स आसानी से चला सकते हैं। हमेशा प्रयास कीजिए की काम के लेट होने का कारण आप ना हों। क्योकि आप अगर लेट काम पूरा कर रहे हैं तो आपको ज़िम्मेदार माना जाएगा। इस मामले में देखा गया है की एक तो डेवलपर थोड़ा धीमा काम कर रहा है। फिर वो छुट्टियां भी ले रहा है, (एक मिनट, हम ये नहीं कह रहे की छुट्टिया लेना गलत है, छुट्टिया लीजिए, पर काम पूरा कीजिए), अगर काम नहीं पूरा हुआ तो कही ऐसा ना हो आपको पूरी ही छुट्टी दे दी जाए।

ऑफिस में बातें या मनोरंजन की आदत: ये गलती ना करें

ये एक बात है, जिस पर लोग control कर सकते हैं पर करते नहीं, जिसकी वजह से प्रोजेक्ट लेट होते हैं। देखिये हर समय आप पर नज़र नहीं रखी जा सकती और ये अच्छा भी नहीं लगता। देखा गया है, बातूनी स्वाभाव की वजह से जो एम्प्लाइज distract रहते हैं वो कभी भी बेहतर काम, कम समय में नहीं कर सकते। आपको पता नहीं चलेगा, आपको लगेगा की आप सही स्पीड से काम कर रहे हैं पर अपने एक्सपीरियंस से कहते हैं की ऐसा नहीं है। Employees आपसी बात-चीत में घंटों ख़राब करते हैं। वो उस काम पर ध्यान नहीं देते जिसके लिए वो वहां हैं। और जो कर्मचारी इस बात को समझते हैं वो अपनी ही नौकरी सुरक्षित करते हैं। साथ ही अपना भविष्य भी। ये दरअसल एक ऐसी कमज़ोरी है जो आप खुद पैदा करते हैं। ऐसा ना करना आपको ही आसानी देगा।

ऑफिस के नियम ना मानना: ये गलती ना करें

ये आदत छोड़ दीजिए। क्या हुआ जो मैं एक दिन लेट हो गया। नींद आ रही है, थोड़ा सो लेता हूँ। बॉस को बोल दूंगा की बीमार था, ये आसान है पर कितने दिन तक? इससे हो सकता है आपका बॉस आपके सामने ये मन जाए पर मन ही मन जब भी उसे मौका मिलेगा वो किसी दुसरे को दे देगा। वो जनता है की आप बहानेबाज़ हैं। और अगर वो बोल देगा तो ये कोई अच्छी बात थोड़े ही है। दोनों तरीके से आपकी जॉब जाएगी ही जाएगी। याद रखिये अप्पकी बातों से आप अच्छे एम्प्लोयी नहीं बनते, आपका व्यव्हार ये बताता है। तो ऑफिस में बनाए नियम मानिये अगर आप पहले से जॉब में हैं। और अगर नहीं हैं तो अपने अगले इंटरव्यू में बताना ना भूलिए कि टेक्निकल नॉलेज तो सभी को होगी, पर कर्तव्यनिष्ठा वो कारण है कि आपको इस काम के लिए रखा जाए।

कंपनी के लिए लॉयलिटी:

Work Conditions कंपनियों के लिए भी कोई आसान नहीं होने वाला। बाजार सकुचित है। ऐसे में कुछ परिस्थितिया ऐसी हो सकती हैं जो सामान्य के विपरीत हों, ऐसे में यहाँ वहाँ job-hopping करते घूमा अच्छी आदत नहीं। अपनी loyalty आप बनाए रखिये, वक़्त आने पे आपको इसका फल ज़रूर अच्छा ही मिलेगा। दूसरी बातों कि तरह इसकी चर्चा इंटरव्यू में ज़रूर करिये।
ये पूरा इंटरव्यू आपके ही इर्द गिर्द घूमेगा, और भूलिए नहीं ये बातें, क्योकि अगर अपने ये बातें इंटरव्यू में बोलने के लिए अपने रखी हैं और आप अमल नहीं करते तो नौकरी ज़्यादा दिन तक टिकने वाली नहीं क्योंकि आज हालात सामान्य नहीं हैं।

 

 

 

2020-05-30T16:01:47+05:30

Leave A Comment

step 1

What Services You Are Looking For? Select Multiple services

Website DesigningSEO and PromotionMobile ApplicationFirm RegistrationGraphics And Logo



----------------------------------------------

step 2



step 3



step 4